बिहार छात्रों का स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड स्कीम के तहत एजुकेशन लोन होगा माफ

बिहार सरकार छात्रों के लिए शिक्षा ऋण माफी (Education Loan Waiver) शुरू करने जा रही है, जिन्होंने स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड (Student Credit Card Scheme – SCC) योजना के तहत बैंकों से एजुकेशन लोन लिया था। इस ‘Loan Waiver for Students’ के तहत मुख्यमंत्री ने यह घोषणा करी की यदि कोई भी छात्र अपने प्रोफेशनल कोर्स की पढ़ाई पूरी करता है और उसका कोर्स पूरा होने के बाद अगर नौकरी नहीं मिलती तो उनका पूरा कर्जा माफ हो जाएगा।

इसके अलावा अगर किसी छात्र को जॉब मिल जाती है तो उन्हें 82 आसान किश्तों में अपना एजुकेशन लोन चुकाना होगा। बिहार SCC scheme के तहत कोई भी 12वीं पास विद्यार्थी अपनी आगे की तकनीकी और सामान्य शिक्षा प्राप्त करने के लिए Education Loan ले सकता है। इस सरकारी योजना से छात्र अपने आगे का भविष्य सुधार सकते हैं और आगे चल कर रोजगार पैदा कर सकते हैं।

इससे पहले 7 मार्च 2018 को राज्य सरकार ने बिहार राज्य शिक्षा वित्त निगम (Bihar State Education Finance Corporation – BSEFC) का गठन किया था जिससे विद्यार्थियों को 4 लाख रूपये तक का एजुकेशन लोन बिना ब्याज के मिल सके।

स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड स्कीम – एजुकेशन लोन होगा माफ़

राज्य सरकार शिक्षा के महत्व को समझते हुए राज्य में जागरूकता बढ़ाने पर जोर दे रही है। National Gross Enrollment Ratio (GRE) 24% है जबकि बिहार में 13% है जो की काफी कम है। लेकिन बिहार सरकार इसे 30% तक ले जाना चाहती है और बाद में इसे 35% और 40% तक बढ़ाने का लक्ष्य रखा है।

इस ऋण का उपयोग छात्र अपनी फीस देने, किताबें खरीदने, कंप्यूटर खरीदने और शिक्षा से संबंधित अन्य चीजें खरीदने के लिए कर सकते हैं। सभी श्रेणियों के लिए ब्याज दर अलग-अलग है जैसे की विकलांग, ट्रांसजेंडर और महिला छात्रों के लिए सिर्फ 1% है।

पिछले 10 वर्षों में हाई स्कूल में दाखिला लेने वाली लड़कियों की कुल संख्या पिछले 1 लाख से 9 लाख के पार हो गई है। अब यह देखना बाकी है की सरकार ने घोषणा तो कर दी है पर इसका लाभ छत्रों तक कब पहुंचेगा।

Related Content
Disclaimer & Notice: This is not the official website for any government scheme nor associated with any Govt. body. Please do not treat this as official website and do not leave your contact information in the comment below.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.