राजस्थान सरकार BPL परिवारों को देगी 1 रुपये में अनाज

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने गरीबी रेखा से नीचे की श्रेणी (Below Poverty Line – BPL) वाले लोगों के लिए अनाज 1 रूपये प्रति किलोग्राम देने की घोषणा कर दी है। राज्य सरकार किसानों को दूध पर 2 रुपये प्रति लीटर का बोनस देगी और साथ ही साथ नए 5,000 डेयरी बूथ खोलने के लिए सहायता भी देगी। राजस्थान सरकार ने राज्य के सभी छोटे और सीमांत बुजुर्ग किसानों को पेंशन देने का भी फैसला किया है। गहलोत सरकार समय पर अपना लोन चुकाने वाले किसानों को विशेष पैकेज भी प्रदान करेगी।

सीएम ने भूमि विकास बैंक (land development bank) और केंद्रीय सहकारी बैंकों (central cooperative banks) से किसानों के सभी ऋणों को माफ करने की घोषणा हाल ही में करी थी। सरकार जल्द ही सामान्य श्रेणी के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों के लिए 10% आरक्षण लागू करने का निर्णय ले सकती है, क्यूंकि बहुत से राज्यों में 10 प्रतिशत आरक्षण लागू भी हो चुका है।

राजस्थान सरकार अन्य राज्यों जैसे की गुजरात, कर्नाटक, पंजाब, तेलंगाना, ओडिशा द्वारा लाए गए पैकेजों का अध्ययन करेगी और अपने प्रदेश में बहुत सी कल्याणकारी योजनायें शुरू करेगी।

सरकार BPL परिवारों को 1 रुपये में देगी अनाज

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा की उनका यह कदम राज्य में लगभग 1.53 करोड़ लोगों को लाभ पहुंचाएगा। इसके अलावा, जो छोटे और सीमांत बुजुर्ग किसान जो पेंशन योजना के दायरे में नहीं आते हैं उन्हें अब इस योजना के तहत शामिल किया जाएगा। सीएम द्वारा की गई अन्य प्रमुख घोषणाएं युवाओं के लिए रोजगार से संबंधित थीं। दूध पर 2 रूपये प्रति लीटर बोनस राजस्थान डेयरी फेडरेशन के माध्यम से दिये जाएंगे।

सीएम ने यह भी बताया कि राज्य सरकार ने पहले ही पीएम को पत्र लिखकर सभी कृषि ऋणों को माफ करने का आग्रह किया है। राजस्थान सरकार ने राजस्थान पंचायती राज (Amendment Bill) 2019 और राजस्थान नगर पालिका (Amendment Bill), 2019 को भी शामिल किया है, जो राज्य में स्थानीय निकाय चुनाव लड़ने के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता की शर्त को हटा देगा।

Related Content
Disclaimer & Notice: This is not the official website for any government scheme nor associated with any Govt. body. Please do not treat this as official website and do not leave your contact information in the comment below.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.